200 Cows protected by Bajarangadal from slaughtering

Chattisgarh: Members of Bajaragadal successfully protected nearly 200 cows which were almost slaughtered at the borders of Odisha – Chattisgarh.

बजरंग दल की ब्रजराजनगर शाखा के सदस्यों ने सोमवार की आधी रात को ओडि़शा-छत्तीसगढ़ की सीमा पर कनकठोरा के पास छत्तीसगढ़ के दलालों द्वारा कसाइयों के पास ले जाई जा रही 200 से अधिक गायों को बचाने में सफलता हासिल की।

जानकारी के अनुसार बजरंग दल की स्थानीय शाखा को सोमवार की देर रात में छत्तीसगढ़ की गौ सुरक्षा समिति द्वारा सूचित किया गया कि कुछ दलाल 200 से अधिक गायें छत्तीसगढ़ से कनकतोरा होते हुए सुंदरगढ़ जिले के सर्गीपाली पशु-बाजार ले जा रहे हैं इन गायों को कसाइयों को ब्रिकी जाएगा एवं तदुपरांत इन गायों को कटने के लिए कोलकाता भेजे जाने की व्यवस्था की जाएगी। यह खबर पाकर बजरंग दल के सदस्यों के कान खड़े हो गए एवं आधी रात में अंकिम दास के नेतृत्व में बुलू गरुड़, तुषार गरडि़या, सुनील मंदोदरी तथा चूड़ामणि हिरमा इत्यादि सदस्यों ने आनन-फानन में कनकतोरा पहुंच कर सैकड़ों गायों को अपने कब्जे में कर लिया। बजरंग दल के सदस्यों के घेराबंदी देखकर दलाल गायों को छोड़कर वहां से फरार हो गए। बजरंग दल के कार्यकर्ताओं ने रात में गायों को झारसुगुड़ा, ब्रजराजनगर तथा संबलपुर स्थित गौशाला में ले जाना संभव न होने पाने के कारण रात को गायों को पास के काली मंदिर के मैदान में रखा गया, ताकि अगले दिन मंगलवार को इन गायों को विभिन्न गौ शालाओं में भेजा जा सके। रात में ही मामले की सूचना कनकतरा पुलिस चौकी को भी दे दी गई थी। इन गायों में से अनेक गाय जंगल में भाग गई थी एवं कुछ गायें उनके मालिक ले गए एवं 38 बची गायों को गोशाला पहुंचाने का काम बजरंग दल के कार्यकर्ताओं द्वारा आज मंगलवार को किया गया।

Vishwa Samvada Kendra

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Are you Human? Enter the value below *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Next Post

BJP : A HUB OF HOPE, writes LK ADVANI

Fri Jun 1 , 2012
by LK Advani, NewDelhi Politicians are generally critical of media persons. It is, however, rare that media men themselves ridicule their own fraternity for indulging in political criticism not because it is justified but because even while realizing that the criticism is uninformed and superficial, the write ups do add […]