प्रैस विज्ञप्ति :पांच गायों को कसायों से बचाया, विहिप-बजरंग दल का प्रदर्शनटेम्पो पुलिस के हवालेआरोपी फरार

Photo 140117 Gau Bans Bachaya

नई दिल्ली। जनवरी 17, 2014। राजधानी दिल्ली के उत्तर-पूर्वी जिला के थाना खजूरी खास के अंतर्गत खजूरी चौक लालबत्ती पर शुक्रवार सुबह 6 बजेविहिप-बजरंग दल कार्यकर्ताओं की सतर्कता ने पांच गायों सहित टैम्पू को उस समय अपने कब्जे में ले लिया गया जब इन गायों को गोकशी के लिए किसी अन्य जगह ले जाया जा रहा था। विहिप कार्यकर्ताओं ने पुलिस को सूचित कर मामला दर्ज करा टेम्पो को जब्त कराया किन्तु टेम्पो चालक व उसके साथी अपराधीफ़रार हो गए। खजूरी खास थाना पुलिस ने पांच अज्ञात लोगों के विरुद्ध मामला दर्ज किया है।

खजूरी पुस्ता रोड पर उत्तर प्रदेश की ओर से एक महेन्द्रा जेएनयू टैम्पू HR 55N 6838 में कुछ अज्ञात लोग 3 गाय व दो बछड़ों को गोकशी के लिए ले जा रहे थे कि अचानक टैम्पू का पहिया निकल गया और टैम्पू पलट गया। इतने में विहिप-बजरंग दल के कार्यकर्ताओं को देख टैम्पू में सवार अपराधीगाडी और गायों को छोड़ फरार हो गए। विश्व हिन्दू परिषद के कार्यकर्ता टैम्पू में जख्मी हालत में गायों व बछड़ों को देख पुलिस से रिपोर्ट दर्ज करने की मांग करते हुए प्रदर्शन करने लगे, लेकिन पुलिस मामले को रफा-दफा करना चाहती थी। कार्यकर्ताओं का दवाब बढ़ते देख पुलिस ने पांच अज्ञात लोगों के खिलाफदिल्ली एग्रीकल्चर एनीमल प्रोटेक्शन एक्ट की धारा 5/12 तथा क्रुअल्टी टू एनीमल एक्ट की धारा 11 डी के तहत एफ़ आई आर संख्या 52/2014 दर्ज कर गायों व बछड़ों को गऊशाला भेज टैम्पू को जब्त कर लिया।

ज्ञात हो कि टैम्पू के सामने वाले भाग पर कोई नम्बर प्लेट नहीं थी किन्तु पीछे लिखा रजिस्ट्रेशन नम्बर भी जाली से ढका हुआ था। यही नहीं पुलिस की आंखों में धूल झोंकने के उद्देश्य से टैम्पू के फ्रंट शीशे पर एक जाने-माने राष्ट्रीय समाचार पत्र व लोनी नगर पालिका परिषद ठेकेदार धमेन्द्र कसाना का स्टीकर लगा था। इसके अलावा टैम्पू में गाय व बछड़ों को लादने के बाद गाजर की बोरियों से ढका हुआ था। गायों व बछड़ों को इस बेरहमी से लादा गया था कि उनके चोटें भी आई हुई थीं।

 

प्रदर्शनकारियों में बजरंग दल के प्रांत संयोजक शिव कुमार, विहिप के परावर्तन आयाम के प्रांत प्रमुख तेजवीर, यमुना विहार विभाग के मंत्री रविदत्त शर्मा, करावल नगर जिला अध्यक्ष अभिलाष परिहार व जिला मंत्री संजय गौतम सहित सैकड़ों विहिप कार्यकर्ता व अन्य हिन्दू संगठनों के पदाधिकारी मौजूद थे।