नाहरलगून , अरुणाचल प्रदेश : राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरकार्यवाह श्री सुरेश भय्या जी जोशी ने कहा कि अरुणाचल प्रदेश के बिना भारत अधूरा है तथा भारत के बिना अरुणाचल प्रदेश का भी अस्तित्व नहीं है | उन्होंने कहा कि भारत भूमि विविधताओं की धरा है, और यह हमारी संपन्नता का प्रतीक है |

10897009_918574914923356_4780131347931292714_n

सरकार्यवाह जी अरुणाचल प्रदेश के प्रवास के दौरान नाहरलगून के आर्ट एंड कल्चर मैदान में गणमान्य जनों, महिलाओं, युवाओं के एकत्रीकरण कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे | उन्होंने कहा कि हमें भारतीयों के रक्त में प्रवाहित एकत्व की भावना को पहचानकर मजबूत करना है और देश को आगे ले जाना है |

पड़ोसी देशों के साथ युद्धों का उदाहरण देते हुए भय्या जी जोशी ने कहा कि चीन के साथ हुये युद्ध को छोड़कर हमने अन्य सभी युद्धों में जीत हासिल की है | चीन के साथ युद्ध में हम कम शक्ति के कारण नहीं हारे, बल्कि हमारे नेताओं की कमजोर और पीछे हटने की मानसिकता के कारण हारे |

अपने देश में धरती के बाहर व अंदर उपलब्ध प्राकृतिक संसाधनों का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि भगवान ने हमें अपार मात्रा में प्राकृतिक संसाधन दिये हैं, और इनका मानवता की भलाई के लिये आवश्यकता के अनुसार उपयोग की समझ भी हमें (भारतीय) दी है | राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ भारतीयों को एकता की डोर में बांधने के प्रयास को आगे बढ़ा रहा है |

उन्होंने बल देकर कहा कि हमारा भारतीय समाज मूल हिंदुत्व से जुड़ी जड़ों के कारण उदार और मिलनसार है | यदि विश्व सभी धर्मों का समान रूप से आदर करने की हिंदुत्व की अवधारणा को ग्रहण करता है तो आतंकवाद, पर्यावरण असंतुलन, सहित आर्थिक समस्त समस्याएं पूरी तरह से जड़वत समाप्त हो जाएंगी | उन्होंने कहा कि हिंदुत्व केवल एक पूजा पद्धति नहीं है, अपितु एक पूर्ण जीवन जीने की पद्धति है, जो भारतीय समाज के साथ गहरे तक जुड़ी हुई है | उन्होंने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के तथाकथित आलोचकों को चेतावनी देते कहा कि संगठन पर कोई टिप्पणी करने से पूर्व वास्तविक तथ्यों को जान लेना चाहिये |