16 जून ,लखनऊ:  क्रीडा भारती अवध के द्वारा सुभाष चन्द्र बोस स्नातकोत्तर महाविद्यालय परिसर में विगत 31 मई से चल रहे 15 दिवसीय ग्रीष्मकालीन प्रांतीय ओलंपिक 2015 के समापन अवसर पर विजयी प्रतिभागियों व निर्णायकों को पुरस्कार व प्रमाण पत्र देकर सम्मानित किया गया

समापन कार्यक्रम में मुख्य वक्ता अवध प्रान्त के मा.प्रान्त प्रचारक संजय जी, मुख्य अथिति भारत सरकार में कौशल विकास, उद्यमिता, युवा कार्यक्रम और खेल मंत्रालय के राज्य मंत्री स्वतंत्र प्रभार श्री सर्बानंद सोनेवाल, अध्यक्षता क्रीडा भारती के राष्ट्रीय अध्यक्ष व पूर्व क्रिकेटर श्री चेतन चौहान जी व विशिष्ट अथिति के रूप में प्रान्त संघचालक मा. प्रभुनारायण जी, प्रान्त सह कार्यवाह श्री नरेन्द्र जी रहे.

Manch Par baithe prant sangh chalak prabhunayan ji chetan chauhan ji sarvanand sonewal ji aur prant pracharak Sanjay ji

मुख्य वक्ता के रूप में बोलते हुये प्रान्त प्रचारक मा. संजय जी ने क्रीडा भारती की ओर से आयोजित 15 दिवसीय ग्रीष्मकालीन प्रांतीय ओलंपिक 2015 की सराहना करते हुये कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों में इस प्रकार के आयोजनों में युवाओं को अपनी काबिलियत दिखाने का अवसर मिलता है. और यहीं से निकलीं प्रतिभा विश्व स्तर देश का नाम रोशन करती है.

मुख्य अथिति के रूप में बोलते हुये भारत सरकार में कौशल विकास, उद्यमिता, युवा कार्यक्रम और खेल मंत्रालय के राज्य मंत्री स्वतंत्र प्रभार श्री सर्बानंद सोनेवाल ने कहा देश में ग्रामीण क्षेत्रों के युवाओं को खेल जगत में आगे बढाने के लिए इस प्रकार के आयोजन सदैव होते रहना चाहिए. जिससे हमारे प्रतिभावान युवा विश्वस्तर पर गांव से लेकर देश का भी नाम ऊँचा करते रहेंगे.

ग्रीष्मकालीन प्रांतीय ओलंपिक में एथिलेटीक्स के साथ साथ सामूहिक सूर्यनमस्कार, फुटबाल, बालीबाल,कबड्डी खो-खो,क्रिकेट जैसी प्रतियोगितों का आयोजन किया गया था.

समापन कार्यक्रम में मुख्य वक्ता अवध प्रान्त के मा.प्रान्त प्रचारक संजय जी, मुख्य अथिति भारत सरकार में कौशल विकास, उद्यमिता, युवा कार्यक्रम और खेल मंत्रालय के राज्य मंत्री स्वतंत्र प्रभार श्री सर्बानंद सोनेवाल, अध्यक्षता क्रीडा भारती के राष्ट्रीय अध्यक्ष व पूर्व क्रिकेटर श्री चेतन चौहान जी व विशिष्ट अथिति के रूप में प्रान्त संघचालक मा. प्रभुनारायण जी, प्रान्त सह कार्यवाह श्री नरेन्द्र जी रहे.

viyayi pratibhagiyon ke sath chetan chohan kendra sarkar mein khel rajya manti  rajya