​Kurukshetra Haryana July 29, 2016: ‘An internal Purification within an individual will definitely sustain the Culture, which is needed to eradicate social ailments like corruption, Caste ism. One should rise above the caste factor and should work for society’, said RSS Akhil Bharatiya Karyakarini Sadasya Indresh Kumar

Indresh Kumar was addressing a gathering at Srimad Bhagavadgita Sadan of Kurukshetra University on a seminar on Drug Abuse, Foeticide and unemployment organised by Forum for Integrated National Security (FINS).

कुरूक्षेत्र -राष्ट्रीय स्वंय सेवक संघ के राष्ट्रीय कार्यकारणी सदस्य इन्द्रेश कुमार  ने कहा कि हमें अपनी संस्कृति को बचाने के लिए अंदर की गंदगी को साफ करना होगा। अंदर की गंदगी से नशा, तलाक, घरेलू हिंसा, अपराध,खून-खराबा, जाति दंगे,बेरोजगारी व भ्रष्टाचार फैलता है। जब अंदर की गंदगी साफ होगी तो मनुष्य विनाश छोडकर विकास की ओर जाएगा। अंदर की गंदगी को साफ करने के लिए जाति, धर्म, सम्प्रदाय, छुआछात से ऊपर उठकर काम करना होगा। तभी हम गद्दारो को सबक सिखा सकते है।वीरवार को कुरूक्षेत्र विश्वविद्यालय के श्रीमद्भगवद् गीता सदन में फैन्स द्वारा नशा, भ्रूणहत्या  बेरोजगारी विषय पर आयोजित संगोष्ठी में बतौर मुख्यातिथि बोल रहे थे।

उन्होनें कहा कि समाज में फैली कुरितियों पर विशेष ध्यान देना होगा, देश में पर्यावरण को बढावा देना होगा, अपने आस-पास को स्वच्छ बनाकर वातावरण को स्वच्छ बनाना होगा। उन्होनें कहा कि  पिछले दो साल से देश में नए युग का सूत्र-पात हुआ है। देश में भ्रष्टाचार पर अंकुश लगा है। देश की उन्नति के लिए सभी को मिलकर चलना होगा। गरीब, दलित व पिछडो की सेवा करनी होगी।

उन्होंने कहा कि पडोसी देशो का सामना करनेे के लिए हमें सजग रहने की जरूरत है जो पाकिस्तान अपने देश के लोगों को न्याय मागनें पर मौत देता है तो पाकिस्तान भारत में भी अशांति  का माहौल बनाना चाहता है। उन्होनें कहा कि पाकिस्तान में 40 लाख ऐसे व्यक्ति है जिनके पास सिर ढकने के लिए कुछ भी नही है। उन्होनें कहा कि हमें कुरूक्षेत्र की धरती पर स्वच्छता, भू्रण हत्या न करवाना, नशा मुक्त बनाने का संकल्प लेना होगा। उन्होनें कहा कि अंदर की गंदगी धोने के लिए रक्षा बंधन के दिन 17 अगस्त को दिल्ली के ताल कटोरा स्टेडियम में विभिन्न धार्मिक संस्थाओं द्वारा विशेष कार्याक्रम का आयोजन किया जाएगा। जिसमें नैतिक मुल्यों पर विचार करके अंदर की गंदगी को साफ करने का प्रयास किया जाएगा।

स्वामी महामण्डलेश्वर यतिन्द्रा नन्द गिरी ने कहा कि जीवन में आंतरिक शुद्धता धर्म से जुडकर ही संभव हो सकती है। धर्म में कोई राजनिति नही होती, राजनिति में धर्म हो सकता है। उन्होनें कहा कि भारत दर्शन में कही भी जातिसूचक शब्द का उल्लेख नही है। लोगों को जाति-धर्म से ऊपर उठकर काम करना चाहिए। उन्होनें कहा कि युवा पीढी को नशे से दूर रखे, पडोसी देश भारत की युवा पीढी को नशे की ओर धकेल कर भारत को कमजोर करना चाहते है।

हरियाणा के शिक्षा मंत्री रामबिलास शर्मा ने कहा कि देश व प्रदेश में लिंगानुपात में असमानता का होना हिन्दुस्तान की जनता का निर्णय नही बल्कि यह पडोसी देशो का एक वायरस है जो हिन्दुस्तान को भी तंग कर रहा है। अब देश के प्रधान मंत्री नरेन्द्र मोदी व प्रदेश के मुख्यमंत्री मनोहर लाल के प्रयासो से लिंगानुपात में काफी बढोतरी हुई है। प्रदेश में अब लिंगानुपात 834 से बढकर 905 तक पहुंच गया है।